Moral stories in Hindi for class 10(Moral)| Hindi Stories

Moral Story in Hindi for Class 10

In this post you will get to read short Hindi moral stories for class 10 students with moral values.

1. प्यार का असली मतलब|Moral Story in Hindi for Class 10

Moral Story in Hindi for Class 10

Moral stories in Hindi for class 10– एक बार एक व्यक्ति अपनी नयी कार को बड़े प्यार से पोलिश करके चमका रहा था । तभी उसका ६ साल का बेटा पत्थर से कार पर कुछ लिख रहा था।

कार पर खरोच लगती देखकर पिता को बहुत गुस्सा आने लगा और उसने अपने बेटे का हाथ जोर से मरोड़ दिया।

उसने ने हाथ इतनी जोर से मरोड़ा की बच्चे की उंगलिया टूट गयी।

बाद में जब लड़के को अस्पताल भर्ती में किया तो दर्द से पीड़ित होकर उसने पास में खड़े अपने पिता से पूछा कि पापा मेरी उंगलिया कब ठीक होंगी?

पिता को अपनी की गई इस गलती का पछतावा हो रहा था और वो बच्चे के सवाल का जवाब नहीं दे पाया।

पिता वापस जाता है और कार पर लातें बरसाकर अपना गुस्सा निकालने की कोशिश करता है तभी उसकी नजर उस खरोच पर पड़ती है, जिसकी वजह से उसने बेटे का हाथ तोड़ा था।

आप ये जानकर चकित रह जाओगे कि बेटे ने उसके पिता की कार पर पत्थर से खरोच कर – आई लव यू डेड लिखा था।

और ये पढ़कर उसके पिता को और भी ज्याद पछ्तावा होने लगा।

सीख (Moral):

Moral stories in Hindi for class 10– गुस्से और प्यार की सीमा नहीं होती । हमेशा याद रखें की चीजें इस्तेमाल करने के लिए होती है और इंसान प्यार करने के लिए । परंतु आज कल के ज़माने मै होता इससे उलटा है।

लोग चीजो से प्यार और लोगो का इस्तेमाल करते है ।

2. एक कपटी बाज की कहानी|Moral Story in Hindi for Class 10

Moral stories in Hindi for class 10– एक बाज एक पेड़ की डाली पर रहता था। उसी पेड़ की एक खोह में एक लोमड़ी भी रहती थी।

एक दिन जब लोमड़ी अपनी खोह से निकलकर बाहर शिकार के लिये जाती है तो बाज उसके खोह मे घुस जाता है और अपने बच्चों को खिलाने के लिए लोमड़ी के बच्चो को उठाकर ले आता है।

जब लोमड़ी लौटी, तो उसने बाज से अनुरोध किया कि वो उसके बच्चों को लौटा दे।

बाज को पता था कि लोमड़ी उसके घोंसले तक नहीं पहुँच पायेगी और उसने लोमड़ी के अनुरोध पर कोई ध्यान नहीं दिया।

लोमड़ी पास के एक मंदिर मै गई और वहा से जलती हुई लकडी लेकर आई और उसने पेड़ के नीचे आग लगा दी । आग की गर्मी और धुएं से बाज डर गया।

और अपने बच्चो की जान बचाने के लिए वह जल्दी से लोमड़ी के पास गया और उसके बच्चों को लौटाकर उससे क्षमा माँगी।

सीख (Moral):

Moral stories in Hindi for class 10– किसी का बुरा करने से पहले सोच लें कि उसके साथ उससे भी बुरा होने वाला है।

3. मन की चुप्पी|Moral Story in Hindi for Class 10

Moral stories in Hindi for class 10– एक बार एक किसान की घड़ी कहीं खो गई । चारों तरफ ढुढने और तमाम कोशिशों के बाद भी घडी नहीं मिली । उसने निश्चय किया कि वह इस काम में परिवार के बच्चों की मदद लेगा ।

उसने सब बच्चों को बुलाया और उसने कहा कि तुममे से  जो कोई भी मेरी खोई घडी खोज देगा उसे मैं पांच सौ रुपए दूंगा ।

बच्चों के द्वारा कई घंटो तक ढुढने पर भी घडी नहीं मिली और सभी निराश हो गये । उसी समय एक बच्चा उसके पास आया और बोला, ‘चाचा मुझे एक मौका और दीजिए पर इस बार मै ये काम अकेले ही करना चाहूँगा ।’ बच्चा एक-एक  करके घर के कमरों मै जाने लगा।

जब वह किसान के आराम कक्ष से निकला तो घडी उसके हाथ मैं थी । किसान सोने की घडी देखकर प्रशन्न  हो गया और अचरज मै बोला की ‘बेटा कहा थी यह घडी ?’ बच्चा बोला, मैंने तो कुछ नहीं किया बीएस मैं कमरे मै गया और चुपचाप बैठ गया और घडी की आवाज पर ध्यान केन्द्रित करने लगा । कमरे मैं शांति होने के कारण मुझे घडी की टिक-टिक सुनाई दे गई और घडी और मैंने घडी खोज निकली । जिस तरह कमरे की शांति घडी ढुढने मै मददगार साबित हुई, उसी प्रकार मन की शांति हमें जरुरी चीजें समजने मै मददगार होती है ।

सीख (Moral):

Moral stories in Hindi for class 10हर दिन हमें अपने लिए थोडा समय निकलना चाहिए और होसके तो ध्यान (Meditation) करना चाहिए, जो आगे जाके हमारे जीवन के लिए बहुत फायदेमंद है ।

4. मुर्ख भालू|Moral Story in Hindi for Class 10

Moral stories in Hindi for class 10– बारिश के मौसम मैं एक गाँव के नजदीक गहरी नदी बहती थी । उसी नदी के ऊपर वृक्ष के तने का एक पुल बना हुआ था । वह पुल इतना तंग था कि उस पर से एक समय के लिए एक ही व्यक्ति गुजर सकता था ।

तो एक दिन एसा आया जब एक भालू पुल से गुजरने लगा और पुल की अगली तरफ से दूसरा भालू आने लगा ।

हुआ एसा की वो दोनों भालू पुल के एकदम बिच में डटकर आमने-सामने आकर खड़े रह गये ।

एक भालू गुस्से में आकर बोला – “तू पीछे चला जा, पहले मुझे गुजरने दे और उसके बाद तू पुल से निकल जाना” । उसके उत्तर में दुसरे भालू ने कहा कि : बिलकुल नहीं, इतना आगे अ चूका हु अब मै पीछे नहीं जाऊंगा, तू पीछे चला जा और मुझे पुल को पार करने दे ।

इस बात पर दोनों भालू की बहस छिड गई, कोई मानने को तैयार ही नहीं था । दोनों अपनी जिद या फिर मुर्खता केह लीजिये उस पर अड़े हुए थे ।

देखते ही देखते में दोनों भालुओं के वजन से पुल कमजोर पड़ने लगा । नतीजा ये निकला की पुल टूट गया और दोनों भालू पुल पर से गिर पड़े और डूब के मर गये ।

सीख (Moral):

Moral stories in Hindi for class 10– मुर्ख व्यक्ति हमेशा अपनी जिद के कारण अनजाने में खुद को ही हानी पोहंचाता और इन भालुओ की तरह अपने पैर पे खुद ही कुल्हाड़ी मर्देता है ।

ये भी पढ़ें:

चमत्कारी चक्की की कहानी
Moral stories for class 9
New funny kahaniya in hindi 
panchtantra ki shikshaprad kahaniya
Animal Moral Stories for kids

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *